Saturday, January 22, 2022
HomePopular People शादी के बीच महिला IAS ने कन्यादान से किया इनकार, कहा- मैं...

 शादी के बीच महिला IAS ने कन्यादान से किया इनकार, कहा- मैं पराई नहीं हूं

- Advertisement -

शादियों का सीज़न चल रहा है, ऐसे में चारों-तरफ बैंड-बाजा-बारात का माहौल है। दूल्हा अपनी दुल्हन को ले जाने के लिए घोड़ी पर सवार होकर उसके दरवाज़े पर जा रहा है। ये सुनने में जितना दिलचस्प है उतना ही देखने में भी। भारतीय शादियों की तो बात ही निराली है। यहां की शादियां आम नहीं होती हैं यहां दो परिवारों का मिलन होता है। वैसे तो भारत की हर एक शादी अपने आप में ऐतिहासिक होती है, लेकिन आज हम जिस शादी के बारे में बताने जा रहे हैं वैसी किसी शादी में शायद ही आपने कभी सुना होगा।

दरअसल, हम बात कर रहे हैं तपस्या परिहार की। तपस्या पेशे से आईएएस अधिकारी हैं। उन्होंने साल 2017 में यूपीएससी का एग्ज़ाम पास कर 23वीं रैंक प्राप्त की थी। चार सालों तक सेवा के बाद तपस्या परिहार ने अब शादी कर ली है। उनकी शादी गर्वित गंगवार से हुई है। गर्वित आईएफएस ऑफिसर हैं।

तपस्या ने रोकी अपनी शादी

बता दें, इन दोनों की शादी इन दिनों काफी सुर्खियों में है। इसका कारण है तपस्या परिहार। अब आप सोंच रहे होंगे कि डीएम साहिबा ने आखिर ऐसा क्या कर दिया? तो बात ये है कि तपस्या मैडम ने अपनी ही शादी में अपने पिता को कन्यादान करने से रोक दिया। दुल्हन की यह हरकत देखकर सभी लोग चौंक गए। जिसके बाद महिला आईएएस ने जवाब दिया कि मैं दान की चीज नहीं हूं, आपकी बेटी हूं।

उन्होंने शादी का मतलब समझाते हुए कहा कि विवाह दो परिवार करते हैं, तो फिर छोटा या बड़ा या ऊंचा नीचा होना सही नहीं है। क्यों किसी का दान किया जाए। जब मैं शादी के लिए तैयार हुई तो मैंने भी परिवार में चर्चा कर कन्यादान की रस्म को शादी से दूर रखा।

पति ने किया पत्नी का समर्थन

इस मौके पर उनके पति गर्वित गंगवार ने अपनी पत्नी का समर्थन करते हुए कहा कि शादी के बाद क्यों किसी लड़की को बदलना होता है। चाहे मांग भरने की बात हो या कोई ऐसी परंपरा जो ये सिद्ध करे कि लड़की शादीशुदा है। ऐसी रस्में लड़के के लिए कभी लागू नहीं होती और इस तरह की मान्यताओं को हमें धीरे-धीरे दूर करने की कोशिश करनी चाहिए।

एमपी में जन्मीं तपस्या

बात करें, तपस्या की निजी जिंदगी की तो उनका जन्म मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर जिले के जोबा गांव में हुआ था। उनकी प्रारंभिक शिक्षा केंद्रीय विद्यालय से पूर्ण हुई, इसके बाद उन्होंने पुणे स्थित इंडियन लॉ सोसायटी कॉलेज से लॉ की डिग्री प्राप्त की। शुरु से ही तपस्या आईएएस अधिकारी बनना चाहती थीं। इसलिए उन्होंने दिल्ली में रहकर यूपीएससी की तैयारी की। जानकारी के मुताबिक, पहले प्रयास में उन्हें सफलता नहीं प्राप्त हुई हालांकि दूसरी बार में उन्होंने श्रेष्ठतम अंकों के साथ यह परीक्षा पास की और आईएएस अधिकारी बनीं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular