Thursday, July 7, 2022

राजीव गांधी की हत्या के दोषी पेरारिवलन की रिहाई का आदेश , 9 वोल्ट की 2 बैटरी खरीद कर दी थी ।

- Advertisement -

सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या मामले में जेल में बंद एजी पेरारिवलन को रिहा करने का आदेश दिया है । एजी पेरारिवलन 31 साल से जेल में बंद है ।

इस मामले में 7 दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी । एजी पेरारिवलन उन्ही 7 दोषियों में से एक है । उनके साथ ही संथन , मुरुगन , जयकुमार , रोबर्ट पायस , नलिनी और रविचंद्रन भी सजा काट रहे है।

21 मई 1991 को की गई थी राजीव गांधी की हत्या

- Advertisement -

बता दे कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या 21 मई 1991 को श्रीपेरंबदूर तमिलनाडु में कर दी गयी थी । एक आत्मघाती महिला हमलावर ने अपने शरीर पर बम लपेट कर उनकी जान ली थी । मामले में एलटीटीई (लिट्टे)  की भूमिका थी । मुख्य अभियुक्त ने अपने साथियों के साथ सायनाइड खा कर जान दे दी थी । 7 दोषी गिरफ्तार किए गए थे।

19 वर्ष का था पेरारिवलन , दी थी बैटरी

राजीव गांधी की हत्या करने के लिये पेरारिवलन ने 9 वोल्ट की 2 बैटरी बम बनाने के लिये मास्टरमाइंड शिवरासन को दी थी । पेरारिवलन को 11 जून को गिरफ्तार कर लिया गया । ओर उस पर कोर्ट में दोष शिद्ध हुआ ।

ऐ जी पेरारिवलन A G Perarivalan

1998 में टाडा कोर्ट ने दोषी पेरारिवलन को फांसी की सजा सुनाई थी । जिसके खिलाफ दोषी सुप्रीम कोर्ट पहुंचे । सुप्रीम कोर्ट ने 1999 में सुनवाई करते हुए फांसी की सजा को बरकरार रखा । लेकिन बाद में 2014 में इस सजा को आजीवन कारावास में बदल दिया गया।

- Advertisement -

घटना के समय पेरारिवलन 19 साल का था । पिछले 31 सालों से जेल में बंद पेरारिवलन अब 50 साल का हो चुका है । बताया जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश के बाद  जेल में बंद 6 अन्य दोषियों की रिहाई भी हो सकती है ।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular