Saturday, January 22, 2022
HomePopular Story22 साल बाद अपने ही घर मांगी भिक्षा, जोगी के रूप में...

22 साल बाद अपने ही घर मांगी भिक्षा, जोगी के रूप में लौटा खोया पति

- Advertisement -

मामला झारखंड के गढ़वा जिले का है जहां एक जोगी गांव में भिक्षा मांगने आया तो हड़कंप मच गया। जोगी ने जिस महिला से भिक्षा मांगी वह महिला उसे देखकर हैरान रह गयी कि वह उसका खोया हुआ पति है।

न्यूज़ चैनल आजतक की एक रिपोर्ट के अनुसार जोगी रोजाना की तरह भिक्षा मांगता हुआ एक घर पहुंचा । घर मे रहने वाली महिला ने जब उसे देखा तो चेहरा जाना पहचाना लगा । ध्यान से देखने पर उसने  उसको पहचान लिया । देखते ही महिला रोने लगी ।

22 साल पहले खोया था पति

दरअसल जोगी के रूप में यह व्यक्ति कोई और नही बल्कि 22 साल खोया हुआ उसी महिला का पति था। उसे पूरा परिवार और रिश्तेदार मरा हुआ मान चुके थे । महिला ने बताया कि घर आये जोगी का असली नाम उदय साव है ।

जोगी , बाबा गोरखनाथ , baba gorakhnath

उदय साव की शादी उससे हुई थी और कुछ ही साल बाद अचानक उदय साव गायब हो गया। जिस समय उदय साव गायब हुए उसके एक बेटा और एक बेटी थे । दोनों ही बच्चे बहुत छोटे थे ।

यह भी पढ़े – शनिवार वाड़ा – बाजीराव का महल जिसमे धोखे से मारे गए राजकुमार की रूह भटकती है

जोगी बनकर सारंगी बजाकर मांगते थे भिक्षा

जब जोगी सैमोरा गांव में उनके घर पहुंचा तो वह बाबा गोरखनाथ के भजन गा रहे थे । उनके हाथ मे सारंगी थी और चेहरा एकदम बदल चुका था क्योंकि उस समय उनका भेष बदला हुआ था । गांवो और गलियों में घूम घूम कर सारंगी बजाते थे और भीख मांगते थे ।
महिला को रोते देखकर जोगी बने उदय साव भजन गाते रहे ।

जोगी , बाबा गोरखनाथ , Jogi , baba gorakhnath

थोड़ी ही देर में पूरे इलाके में यह चर्चा फैल गयी और लोग इकठ्ठा हो गये।

जोगी ने शुरू में इनकार किया पर फिर स्वीकार लिया -वही है उदय साव

जब बीते रविवार को महिला के घर उदय साव को पहचान लिया तो महिला रोने लगी और गले से चिपट गयी । लेकिन उदय साव  इस बात से इनकार करता रहा कि वह उन्हें जानता है। लेकिन थोड़ी देर बाद ही उसने स्वीकार कर लिया कि वह उदय साव है । और अब वह जोगी बन चुका है।

परिवार ने घर रुकने को बोला

परिवार और गाँव के सभी लोग उदय साव को जोगी का रूप छोड़कर अपने परिवार के साथ रहने को बोल रहे है। वही जोगी का कहना है कि पत्नी से भिक्षा के बिना उसकी सिद्धि पूरी नही होगी। 
फिलहाल घर और रुकने के बजाय जोगी बने उदय साव ने गांव में ही एक स्कूल को ठिकाना बना लिया है।

गरीबी में जीवन काट रहा था परिवार

22 साल पहले उदय साव के गायब हो जाने के बाद परिवार को लगा कि वह किसी दुर्घटना का शिकार हो गया।  परिवार में दोनों बच्चे और उसकी पत्नी किसी तरह जीवन काट रहे थे। अब सब उसे जीवित देखकर बेहद खुश है । आस पास के गांवो से भी लोग उसे देखने आ रहे है ।

गांव के लोग मिलकर उसे जोगी के रूप से बाहर लाने के लिए बाबा गोरखनाथ के धाम पर यज्ञ और भंडारा करने के लिए तैयारी में जुटे है ।

यह भी पढ़े –

‘इयान कार्डोजो’ 1971 की जंग का वो सूरमा जिसने पहले अपना पैर काटा और फिर दुश्मनों से लड़ता रहा !

The Popular Indian
"The popular Indian" is a mission driven community which draws attention on the face & stories ignored by media.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular