‘आज़ादी’ की इस कथित लड़ाई में औरतें सबसे ज्यादा तबाह थीं ! ‘कश्मीरियत’ पर ‘हैवानियत’ ज्यादा भारी थी !

  वो बेहद शर्मीले स्वभाव का था, नाम था मनोज. उसकी शादी नहीं हुई थी अभी. कुल जमा बाइस साल उम्र थी, हालाँकि गर्लफ्रेंड थी उसकी ! सेना ज्वाइन करने के बाद कश्मीर में उसकी पोस्टिंग नई थी | उसी समय छित्तिसिंघपोरा में सिखों को कश्मीरी आज़ादी के दीवानों ने घरों से खींच कर मारा […]

रविश कुमार रवीश कुमार हिन्दी लेख hindi articles , story , ravish kumar

एक बात कहूँ जानेमन ? तुम बहुत बदसूरत हो एकदम आत्मा के भीतर तक ! -रवीश के नाम खुला ख़त !

अच्छा सुनो न ! तुम्हीं ने बताया था न जानेमन कि स्वतंत्रता हमारा संवैधानिक हक़ है  ?   मैंने मान भी तो लिया था ! मैंने स्वतंत्र होकर बिल्कुल खुले मन से तुम्हें जाँचा-परखा , मैंने पाया कि तुम न जानेमन बस मरदूद हो …… मैंने पाया कि तुम खुद से लड़ रहे हो…. अपने […]

लेखक क्लब उजबक देहाती विकामी हिन्दी कहानियां hindi story articles

सिस्टम ! तुमने अनपढों का, कामगारों का, मुझ जैसे पढ़े-लिखे बेरोजगारों का मज़ाक बनाया !

प्रिय दोस्तों. मैं जानता हूँ कि मैं कोई राजनेता, कोई सेलिब्रिटी या फिर कोई बड़ा दार्शनिक नहीं हूँ. मैं यह भी जानता हूँ कि आपमें से अधिकांश मेरे इस लेख पर मेरा उपहास उड़ाएंगे. आपको पूरा अख्तियार है यह सब करने का क्योंकि मैं कोई अधिकार नहीं रखता, मैं कोई शक्ति नहीं रखता. मेरे पास […]