पोस्टपार्टम डिप्रेशन-कहीं आप तो नहीं इस गंभीर बीमारी की शिकार!

pic source – google

दुनिया के दो सबसे मशहूर शब्द हैं ‘मां’ और ‘प्यार’..ज्यादातर लोगों के लिए आपस में पर्यायवाची जैसे.. मातृत्व पर हमने बहुत कुछ लिख-पढ़ डाला पर अपने बच्चों के लिए फूल सी कोमल और उसपर आये खतरों के लिए चंडी से ज्यादा खतरनाक माँ, शब्दों से शायद परे ही रहेगी..लेकिन माँ को भगवान का दर्जा देते और मदर्स डे पर उनके साथ फोटो खिंचवाते हुए हम मातृत्व से जुडी एक बड़ी समस्या पर ध्यान देना भूल गये-  पोस्टपार्टम डिप्रेशन  postpartum depression(PPD)..

डेलिवरी के कुछ दिनों बाद शुरू होने वाला यह डिप्रेशन माँ के स्वास्थ्य और बच्चे के साथ उसके रिश्ते पर काफी बुरा असर डाल सकता है.. हालांकि बच्चे पैदा होने के बाद postpartum baby blues बहुत कॉमन  है , जिसमें मुड स्विंग, तनाव, नींद और भूख आदि में समस्या होती है..अक्सर कुछ दिनों बाद यह समस्या अपने आप खत्म भी हो जाती है पर औरतों की एक अच्छी- खासी तादाद हैं जिनमें यह समस्या डिप्रेसन का रूप ले लेती हैं. हमारे देश में नेशनल मेंटल हेल्थ के सर्वे के अनुसार हर दस में दो मां PPD से गुजरती हैं..

postpartum depression पोस्टपार्टम डिप्रेशन महिलाओं की बींमारी
pic source – Google

समस्या की जटिलता और बढ़ जाती है क्यूकी लोग PPD (Postpartum depression) के विषय में बहुत कम जानकारी रखते हैं..स्वभाविक है कि कोई भी मां इस बात को एक्सेप्ट नहीं करना चाहेगी की उसे उसका नवजात बच्चा अच्छा नहीं लग रहा..वह उसे दूध नहीं पिलाना चाहती, उसका ख्याल नहीं रखना चाहती या अपने मातृत्व से बिलकुल खुश नहीं है..”भगवान” और ”जननी” का टैग लगाये एक औरत यह सच्चाई ना तो कहने की हिम्मत रखती है और ना ही समाज सूनने की धैर्य और परिपक्वता रखता है..नतीजा यह हैं कि वह तनाव और आत्मग्लानि के बीच फंस जाती है..

अमेरिका जैसे देश में एक साल से कम उम्र के बच्चों के मर्डर के पीछे बड़ी वजह है यह और भारत जैसे देश में हम अखबारों में ” मां ने की नवजात के साथ क्रूरता” या ” कलयुगी मां” जैसी हेडलाइंस पढ़ कर मां को कोस कर भूल जाते हैं.. कोई जानने की कोशिश नहीं करता की शायद वह औरत अपने होर्मोनल और जिन्दगी के इस बदलाव को झेल ही नहीं पायी..शायद उसे सही समय पर मेडिकल मदद मिल गयी होती तो ऐसी घटना होती ही नहीं..समस्या इतनी व्यापक होने के बावजूद हमारे देश में माओं के लिए चलाये गये विभिन्न स्वास्थ कार्यक्रमों में PPD से बचाव या इलाज का जिक्र भी नहीं होता

हमारी हर सोच के पीछे केमिकल्स होते हैं.. ऐसे में होरमोन्स का इतना उतार- चढ़ाव एक इन्सान को कितना प्रभावित कर सकता हैं इसका एक बड़ा उदाहरण है कि दुनियाभर में औरतों की सबसे ज्यादा आत्महत्यायें पीरियड्स के टाइम पर होती हैं..

postpartum depression पोस्टपार्टम डिप्रेशन महिलाओं की बींमारी
pic source – google

समाज का ताना- बाना भी PPD के केस को और खराब कर रहा हैं.. पहले संयुक्त परिवार ज्यादा थे और नवजात की की देखभाल दादी- नानी, फूफी- भाभी सब बड़े प्यार से करती थी पर अब न्यूक्लियर परिवार ने माँओं से यह राहत भी छिन ली हैं..कई बार बेटा पैदा ना कर पाने का अफ़सोस और दबाव भी हमारे देश की औरतों पर होता हैं जोकि उसके डेलिवरी के बाद के समय को और मुश्किल बना देता है..

अगर हम थोड़े से जागरूक हो तो हर साल PPD (Postpartum depression)  की शिकार होने वालीं हमारे देश की करीब एक करोड़ माओं के लिए मातृत्व सच में सुखद एहसास बनेगा ना की अकेले चुपचाप घुटने वाली समस्या..

So it’s good to celebrate mother’s day but better to understand mothers and their actual problems..

– मेघा मैत्रेय

Comments

comments

मेघा मैत्रेय Author

मेघा मैत्रेय हरियाणा से है और सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती है ! राजनीति , समाज और नारी शशक्तिकरण पर जोरदार तरीके से लिखने वाली मेघा स्टूडेंट है !

Leave a Reply