इस अजेय जाट राजा की कूटनीति से घबरा गया था अब्दाली !

1761 में पूना पेशवाओं को हराने वाला अहमदशाह अब्दाली, 1757 में एक अजेय भारतीय की कूटनीति के आगे हुआ था धराशायी:

यह किस्सा प्रोफेसर गण्डासिंह ने अहमदशाह अब्दाली पर लिखी अपनी पुस्तक में क़दरतुल्लाह के ग्रंथ ‘जाम-ए-जहानुमा’ के पेज 181 से लिया है| आक्रांता अहमदशाह अब्दाली ने भारत में लाखो लोगो का कत्लेआम किया| जब दिल्ली पर कब्ज़ा करने के बाद, अब्दाली मथुरा की तरफ बढ़ा तो चौमुहा गाँव में 5000 जाटों की सेना ने अब्दाली से युद्ध किया| अब्दाली यहां से वृंदावन गया और हज़ारो लोगो का क़त्ल किया| नई निज़ामी के अनुसार 7 दिन तक यमुना का पानी खून से लाल रहा|

सूरजमल जाट राजा भरतपुर ,surajmal jaat raaja bharatpur

Pic source :wikimedia

अब्दाली ने महावन में कैम्प लगाया, उसने देखा की भरतपुर का राजा उससे डरा नहीं| 27 मार्च 1757 को अहमदशाह अब्दाली ने लोहागढ़ (भरतपुर) को धमकी देने के लिए एक अफगान अधिकारी को एक धमकी भरे पत्र के साथ सूरज-सुजान (महाराजा सूरजमल) के पास भेजा कि अगर उसने एक करोड़ रुपया नजराना पेश करने में और टालमटोल की तो डीग, कुम्हेर, वैर और भरतपुर के उसके चारों दुर्ग भूमिसात करके धूल में मिला दिए जायेंगे| और उसके प्रदेश की जो दुर्गति होगी, उसकी पूरी जिम्मेदारी उसी की होगी।

किन्तु जाट राजा भयभीत नहीं हुआ। उसने कूटनीतिक शब्दों में उत्तर भेजकर अपने साहस एवं सूझबूझ का परिचय दिया। अपने विशाल कोष, सुदृढ़ दुर्गों; असंख्य सेना और भारी मात्रा में युद्ध सामग्री के कारण महाराजा सूरजमल ने अपना स्थान नहीं छोड़ा और अपने को युद्ध के लिए तैयार किया। सूरज-सुजान ने अब्दाली के दूतों को कहा –

“अभी तक आप लोग भारत को नहीं जीत पाये हैं। यदि आपने अनुभवहीन बच्चे (इमाद-उल-मुल्क गाजीउद्दीन, जिसका दिल्ली पर अधिकार था) को अपने अधीन कर लिया है तो इसमें घमंड की क्या बात है? अगर आप में सचमुच कुछ दम है, तो मुझ पर चढ़ाई करने में इतनी देर किसलिए?”

लोहागढ़ किला जाट राजा सूरजमल जाट

लोहागढ़ किला तस्वीर स्रोत – blogspot

शाह जितना समझौते की कौशिश करता गया, उतना ही जाट का अभिमान और दृढ़ता (अक्खड़पन) बढ़ती गयी। उसने कहा,

“मैंने इन किलों पर बड़ा धन लगाया है। यदि शाह मुझसे युद्ध करे, तो यह उसकी मुझ पर कृपा होगी| क्योंकि तब भविष्य में दुनिया यह याद रख सकेगी कि एक बादशाह बाहर से आया था और उसने दिल्ली जीत ली थी, पर एक साधारण जाट-जमींदार के विरुद्ध वह लाचार हो गया था।”

जाटों के किलों की मजबूती से डरकर शाह वापस चला गया। और दिल्ली जाकर मुहम्मदशाह की पुत्री के साथ स्वयं का तथा आलमगीर द्वितीय की पुत्री के साथ अपने पुत्र का विवाह करके और नजीब खान को भारत में अपना सर्वोच्च प्रतिनिधि नियुक्त करके वह कन्धार लौट गया।”

महाराजा सूरजमल जाट maharaja surajmal jat

Pic source- Jaatland

कुछ दिग्भर्मित इतिहासकार महाराजा सूरजमल और अब्दाली के मध्य 5 लाख रुपए का समझौता हुआ बताते हैं, पर सूरजमल ने 1 पैसा भी अब्दाली को नहीं दिया| पेशवा दफ्तर, xxi, पत्र iii; भाऊ बख़र के अनुसार सूरजमल ने अब्दाली को एक पैसा भी नहीं दिया बल्कि पानीपत के युद्ध में अब्दाली से हारे मराठो को भी अब्दाली के खिलाफ सहायता दी| ऐसे अफलातून जाट को दुनिया नमन करती हैं। सभी प्राप्त वृत्तान्तों के अनुसार अब महाराजा सूरजमल उस समय हिन्दुस्तान में सबसे धनी, सबसे बुद्धिमान राजा था और वही एक ऐसा था, जिसने पेशवाओं को ‘चौथ’ और ‘सरदेशमुखी’ न देते हुए भी उनसे अच्छे सम्बन्ध बनाये रखे। अब्दाली को उसने चकमा दे दिया था।

(यदि आपके पास भी इस तरह के किस्से है तो हमे जरुर भेजिए , हम अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे और हमारा पेज लाइक करना न भूले )

Comments

comments

The Popular Indian

"The popular Indian" is a mission driven community which draws attention on the face & stories ignored by media.

You may also like...