मसीहा से कम नहीं ये वर्दी वाली लड़की,फेसबुक पर आठ लाख से ज्यादा फॉलोअर्स!

स्मिता तांडी (पुलिस कांस्टेबल छत्तीसगढ़ )

आपने अनेक सेलेब्रिटी के बारे में सुना होगा लेकिन आज जिस सेलेब्रिटी की कहानी हम आपको बताने जा रहे है उसे जानकर आप भी उन्हें सलूट करेंगे !  गरीबो की मदद करते करते ये इतनी पॉपुलर हो जाएंगी किसी ने सोचा भी नहीं होगा !

smita tandi स्मिता तांडी

स्मिता तांडी

इन महिला पुलिस कांस्टेबल का नाम है स्मिता तांडी ! जिन्होंने अपने जज्बे की वजह से छतीसगढ़ और पुलिस डिपार्टमेंट का नाम रोशन किया है ! यहीं नहीं इस महिला कांस्टेबल को फेसबुक पर आठ लाख से ज्यादा लोग फॉलो करते है !

दरसल स्मिता तांडी के गरीबो की मदद करने के जज्बे ने उन्हें इतना पॉपुलर बना दिया कि उनके फेसबुक पर पोस्ट डालते ही लोग उनकी मदद करने को तेयार हो जाते है | उनके फोलोवर्स उनकी पोस्ट पढ़कर उनके साथ गरीबो की मदद करने में सहायता करते है !

स्मिता तांडी smita tandi

माँ और बहन के साथ स्मिता तांडी

स्मिता के जीवन में इतने बड़े बदलाव के पीछे एक दुखद कहानी भी है ! दरअसल  स्मिता के पापा भी पुलिस में थे और स्मिता एक माध्यम वर्गीय परिवार से है |  एक बार स्मिता तांडी के पापा काफी बीमार पड गये |  आर्थिक तंगी की वजह से स्मिता को उनके पापा के इलाज में काफी परेशानी झेलनी पड़ी लेकिन वो लगातार प्रयासरत रही |उनके काफी प्रयास करने के बावजूद भी स्मिता तांडी के पिताजी को बचाया नहीं जा सका !

इस दुखद घटना ने उनके जीवन पर काफी प्रभाव डाला और इसके बाद उन्होंने गरीब और असहाय लोगो की मदद करने को जीवन का लक्ष्य बना लिया ! तब से स्मिता का ये प्रयास निरंतर जारी है ! वे लगातार ऐसे मामलो में अपनी तरफ से और अपने सहयोगियों की मदद से असहाय लोगो की सहायता करती आ रही है जिसके लिए उन्हें कई बार सम्मानित भी किया जा चुका है |

smita tandi स्मिता तांडी

स्मिता तांडी

जरुरतमंदो की मदद के लिए बनाया संगठन

स्मिता ने जब भी किसी जरुरत मंद को देखा या किसी लाचार मजबूर को देखा उसके बारे में अपनी फेसबुक  पर लिखना शुरू कर दिया और अपने स्तर पर उसकी सहायता के लिए आगे आने लगी !  धीरे धीरे लोग भी उनकी मदद को आगे आने लगे और वे पॉपुलर होती चली गयी  | कुछ  महीनो में ही फेसबुक पर उन्हें आठ लाख से ज्यादा लोग फॉलो करने लगे |

जब भी उन्हें आस पास किसी गरीब लाचार की बीमारी का पता चलता है वो खुद उसके पास जाती है और उसके इलाज के लिए हरसंभव प्रयास करती है ! उसकी मदद करने के लिए उसकी डिटेल सोशल मीडिया पर डाल देती है जिससे उनके फोलोवर्स भी  मदद के लिए आगे आते है ! इस प्रकार स्मिता बहुत लोगो की मदद कर चुकी है ! उन्होंने अपने साथियो के साथ मिलकर “जीवनदीप” नाम का संगठन बनाया है !

smita tandi स्मिता तांडी

साथी महिला पुलिसकर्मियों के साथ

महिला दिवस पर स्मिता तांडी को राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित भी किया गया !

स्मिता अभी मात्र 24 साल की है लेकिन उनका ये जज्बा उन्हें बाकी पुलिस वालो से अलग ला खड़ा करता है !  लगातार सामाजिक कार्यो और असहाय लोगो की मदद करने की वजह से स्मिता तांडी प्रसिद्ध होती चली गयी |  अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी  द्वारा उन्हें नारी शक्ति पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया ! किसी भी व्यक्ति के लिए देश के सर्वोच्च व्यक्ति द्वारा सम्मानित होना वाकई गर्व की अनुभूति करने वाला क्षण होता है !

स्मिता तांडी smita tandi

आज स्मिता के गरीबो की मदद करने के जज्बे और प्रसिद्धि से इनके सीनियर्स भी इनका लोहा मानते है और इनके प्रयासों की सराहना करते है ! “द पॉपुलर इंडियन” कम्युनिटी स्मिता तांडी को उनके इस नेक जज्बे के लिए दिल से सलाम करती है |

दोस्तों यदि आप भी स्मिता तांडी के बनाये मेडिकल सहायता ग्रुप से जुड़ कर किसी जरूरतमंद की सहायता करना चाहते है तो जीवनदीप के फेसबुक ग्रुप में जुड़िये – https://www.facebook.com/groups/JivandeepCGbilaspur/

ये भी पढ़े –

नार्थ ईस्ट के लोग भी उतने ही भारतीय है जितने बाकी लोग , चायनीज़ नहीं है हम 

जिन बंगलो में कभी बेचा दूध, वहीँ सांसद बनकर पहुचे थे राजेश पायलट 

अपने हिस्से का जंगल आप खा चुके हैं, नदियों को आप पी चुके हैं..

बीटल्स बैंड का मशहूर किस्सा जो जुडा है भारत के ऋषिकेश से

सीकरी की शहादत : इस पूरे गाँव को अंग्रेजो ने गोलियों से भून डाला था

हिंडन नदी का ऐतिहासिक युद्ध, जब क्रांतिकारियों ने अंग्रेजो का घमंड चकनाचूर किया

चौधरी चरण सिंह,जिन्होंने सत्ता का रुख शहर से गाँव की तरफ मोड़ दिया!

मेरठ का वह कोतवाल जिसने अंग्रेजी जुल्म के खिलाफ क्रांति की पहली मशाल जलाई !

Comments

comments

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *