amazon

माना कि बाजार है ,मगर बाजारीकरण के बहाने अपनी यौन फंतासियो को क्यों बेच रहे हो?

यह तो बिल्कुल पल्ले दर्जे की नीचता हुई कि ऐशट्रे में स्त्री की वजाइना में सिगरेट की राख झाडी जाये। बडी घिनौनी हरकत यह है की स्त्री के मुहँ के आकार का टाँयलेट बनाकर उसमें पेशाब किया जाये। औरत का बाजारीकरण इस तरह कर दिया गया है कि अकल खूँटी पर टांगकर औरतो के अलग […]

meri beti sunny leoni banna chahti h

रामगोपाल वर्मा ने बड़ी बदसूरती से अपनी मन की कुंठा को एक बेटी के मुँह से कहलवाया है

फ़िल्म डायरेक्टर  राम गोपाल वर्मा ने महिला दिवस के उपलक्ष्य में कई ट्वीट किए जिसमें से एक ये था, “मैं चाहता हूँ की दुनिया की हर महिला मर्दों को सनी लीओनी की तरह ख़ुशी दे।” ऐसे बेहूदा स्टेट्मेंट पर बवाल भी हुआ था नपे भी थे। अब सफ़ाई देने के लिए उन्होंने एक “बेहद प्रगतिशील” […]

cow गाय गौहत्या

आप उसकी गर्दन नहीं रेत सकते, ना भोजन, ना धर्म, ना अर्थव्यवस्था के लिए

गायें अनंतकाल तक घास पर चलते रहना चाहती हैं ________________________________________ इतालो कल्वीनो के नॉवल “द कासल ऑफ़ द क्रॉस्ड डेस्ट‍िनीज़” में यह “फ़ंतासी” है कि एक दिन पशु जंगलों से आएंगे और मनुष्य को नगरों से विस्थापित करके सभ्यता के उपकरणों पर काबिज़ हो जाएंगे। यह इतना असंभव भी नहीं है। अगर जैविक विकासक्रम के […]

jat women

जाट समाज की लत्ता ओढाने की प्रथा,जो रुढ़िवादी समाज के मुंह पर तमाचा थी !

भारतीय समाज में अंधविश्वास की जड़े कितनी गहरी है ये इस बात से समझा जा सकता है कि आये दिन मनहूस और अशुभ मानकर कितनी ही बहू बेटियों को प्रताड़ित किया जाता है ! कितनी ही लडकियों की शादी में अंधविश्वास की वजह से अडचने आ जाती है विधवा विवाह की तो बात ही छोडिये […]

S.K Nagar Poem

जब मारे गये काफ़िरो की बेटियाँ मुझसे सवाल पूछेंगी…..तुम जवाब दोगे न पिता ?

सुनो पिता ! तुम्हारे कहने पर मैंने अपनी देह पर बम बांध लिया है ! 9 साल की छोटी सी उम्र में इस्लाम पर कुर्बान भी हो जाउंगी ! सुनो पिता ! मैं धर्म को नहीं जानती बस तुम्हे जानती हूँ ! तुम्हारे कहने पर मैंने उन्हें काफिर भी मान लिया है !! सुनो पिता […]

सम्राट मिहिर भोज गुर्जर , mihir bhoj gurjar

ये थे असली बाहुबली हिन्दू सम्राट मिहिर भोज, जिसके नाम से थर थर कापते थे अरबी और तुर्क !

आपने बाहुबली फिल्म तो देखी होगी,लेकिन क्या आपको अंदाजा है भारत में एक महान हिन्दू सम्राट हुए है जिन्होंने पूरी जिन्दगी अरब आक्रान्ताओं से टक्कर ली और हिन्दू धर्म की रक्षा की ! इनके शासनकाल में ही भारत को सोने की चिड़िया बोला जाता था | आइये आपको सम्राट मिहिर भोज गुर्जर के बारे में […]

jammu kashmir gurjar

”हिमालय के यायावर” – पढ़िए वतन के कितने वफादार है ये गुर्जर !

लीजिये, पहाड़ के इन गुज्जरो से मिलिए । पहाड की खडी चढाई को हांफ – हांफ कर नही , बल्कि बडी उत्सुकता, बडे उत्साह से पार कर रहे है । जी ये तो चुस्त पाजामा – सा पहने है ओर नीचा कुर्ता मुसलमानी ढंग का । ” क्या नाम हे तुम्हारा ? ” मै पूछता […]

womens day , women empowerment ,महिला दिवस , महिला शशक्तिकरण

हक तुमने बुर्के में मांग कर देखा बिकनी में भी… छीन क्यों नहीं लेती पिछवाड़े पर दो लात मार कर!

एक लॉलीपॉप दे दिया गया है महिला दिवस का तुम्हें और चहक उठी हो तुम ये तुम्हारा दिन है, सम्मान है महानता है । औकात भुला कर तुम पर थूकने वाले हक दे रहे हैं तुम्हें और सर झुका कर खुश हो रही हो तुम। सुहागरात पर मर्द नाम की चीज से वाकिफ होने वाली […]

दिल्ली के गुर्जर नहीं देंगे जेएनयू के छात्रो को घर, नहीं चाहिए राष्ट्रविरोधी किरायेदार !

पिछले साल जेएनयू में हुए देशद्रोही घटनाक्रम के बाद जेएनयू की साख पर ऐसा कलंक लग गया है कि यूनिवर्सिटी के छात्रो को किराए पर घर मिलने भी बंद होने लगे है | अभी रामजस कॉलेज में हुए मारपीट काण्ड ने इस मामले को फिर से हवा दे दी है | इसी बीच एक और खबर […]

असित कुमार मिश्र , लेखक क्लब , कहानी , हिन्दी कहानिया ,

वोट फाॅर दुलारी भौजी … (कहानी) – असित कुमार मिश्र की कलम से

वोट फाॅर दुलारी भौजी … (कहानी) कोईरी टोला की दुलारी भौजी ने बीडीसी का पर्चा भर दिया है। पूरा गाँव दुलारी को भौजी ही कहता है। और गांव के बड़े – बूढ़े ही नहीं, खुद भगवान जी भी दुलारी भौजी के साथ मजाक करते हैं। भौजी की कहानी में रहस्य, रोमांच, करुणा, हास्य सब है। […]

हिन्दी कहानी , गीताली सैकिया , लेखक क्लब , hindi story lekhak club geetali saikia

पुरुष अगर प्रेम में हो तो फरेब नहीं करता और नारी प्रेम में हो तो बिना कहे ही सब कुछ समझ जाती है (कहानी )

“प्रेम” गुवाहाटी शहर के बीचोबीच एक पार्क..उसमे एक झील ..उसके किनारे लगी नीले रंग की वो बिना हत्थेदार बेंच..थोड़ी थोड़ी जंग लगी हुई…कही कहीं से रंग उखड़ा हुआ .और उस पर एक सुन्दर सा मानव-पंछी जोड़ा….स्कूल ड्रेस में पार्क की नीरवता को अपने मधुर कलरव से रंगता हुआ..बेंच पर पैर लटकाए हुए .. “आज फोन […]

बाहर जाकर “भूला भटका कश्मीरी नौजवान” फिर सवाल नहीं बल्कि पत्थर ही उठाएगा

BBKN : भूला भटका कश्मीर का नौजवान मुझे अपनी पड़दादी का चेहरा अच्छी तरह ध्यान है। चेहरे पर बुढ़ापे के कारण झुर्रियाँ थी लेकिन वैसे फिट थीं। मेरे बड़े बाबा का घर हमारे घर से शायद डेढ़ दो किलोमीटर दूर था, दुसरे चौथे दिन वो हमें मिलने आती थी।जब जाने लगती तो हमें कहा जाता […]

याद रखिएगा कि किसी भी भाषा की कब्र पर दूसरी भाषा नहीं जन्मती !

कई दिनों से भोजपुरी और हिंदी में लड़ाई चल रही है। सुश्री भोजपुरी जी का कहना है कि मेरे पास मेरा साहित्य मेरे लोकधर्म मेरे लेखक विचारक सब हैं सबसे ज्यादा बोली जाने वाली बोली / भाषा मैं ही हूँ तो मुझे संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल किया जाए। श्रीमती हिंदी जी का कथन […]

बाएँ बाजू पर खसरे की सूई का निशान आपके युद्ध का पहला मैडल है !

पार्थ! युद्धाय कृतनिश्चय: …. शुकुल सर का नाम सुने हैं आप! क्या कहा – नहीं! तब बलिया को अभी जाने ही नहीं आप।बलिया के ही हैं शुकुल सर। शुकुल सर हैं तो संस्कृत है, शुकुल सर हैं तो शांति हैं, शुकुल सर हैं तभी नैतिकता, आदर्श, विश्वबंधुत्व जैसे शब्द, शब्दकोश में जीवित हैं। बूझ गए […]

भारत को हजारों विकलांग स्वीकार हैं… लेकिन नपुंसक एक भी नहीं ! पढ़िए असित कुमार मिश्र का आलेख !

उरी में हमारे जवानों की शहादत के बाद से ही युद्ध के पक्ष – विपक्ष में काफ़ी कुछ लिखा गया और लिखा जाएगा।कुछ लोग तो बाकायदे युद्ध की विभीषिका से डराने लगे थे। कुछ तो यह भी बता रहे थे कि हमारे पास हथियार और संसाधनों की कमी है। कुछ विकासवाद का रोना भी रो […]