इस खतरनाक जंगल में जिंदा बचे रहने की ट्रेनिंग अभी से अपने बच्चों को दीजिये।

एक लड़का था. बहुत ब्रिलियंट था. सारी जिंदगी फर्स्ट आया. साइंस में हमेशा 100% स्कोर किया. अब ऐसे लड़के आम तौर पर इंजिनियर बनने चले जाते हैं, सो उसका भी सिलेक्शन हो गया IIT चेन्नई में. वहां से B Tech किया और वहां से आगे पढने अमेरिका चला गया. वहां से आगे की पढ़ाई पूरी […]

मुसलमानों ! इस खूबसूरत दुनिया मे आप की कोई हिस्सेदारी क्यों नहीं ?

1400 साल से आज तक मुसलमानो की सोच चटाई और मिट्टी के लोटे से बाहर नहीं आई और दुनिया कम्प्यूटर ऐज से होती हुई  मार्स (मंगल) पर खड़ी है । किस ने हैक कर लिए इस फ़ातेह कौम के दिमाग़ को, जहाँ सोचने के लिए सिर्फ टखनो से ऊँचा पाजामा, एक मुश्त चार ऊंगल दाढ़ी। […]

काश कि वो जोधपुर की मुस्लिम बच्ची भी इतनी ख़ुशनसीब होती.

जोधपुर में हुई घटना पर कल एक मुस्लिम भाई से बात हो रही थी. जोधपुर में एक “नमाज़ी” ने ख़ुद को हज़रत इब्राहिम समझते हुए इस “मुग़ालते” में अपनी बेटी को जिबह कर दिया था, कि अल्लाहतआला उसको वैसे ही बचा लेंगे, जैसे हज़रत इस्माइल को बचाया था. लेकिन वैसा हुआ नहीं. पता नहीं, क्या […]

sad story

जिंदगी से इतनी लड़ाई के सालों बाद आज वह फिर डिप्रेसन में है !

एक लड़की है। माँ की मौत के बाद पिता ने ज्यादा मतलब नहीं रखा। सौतेली माँ के अत्याचार से लेकर रिश्तेदार द्वारा यौन शोषण, यानी हर उस नर्क से गुजरी जो किसी बच्चे को मानसिक रूप से बर्बादी तक पहुंचाने के लिये पर्याप्त हो। बारहवीं पास करते-करते ड्रग्स की आदि हो चुकी थी। कॉलेज में […]

hindi story , ajit singh , lekhak club , sardar ji , हिन्दी कहानी , हिन्दी लेखक

हमें बेहतर दुनियां बनानी है तो इन सरदारों से हमें सीखना पड़ेगा !

बांग्ला साहिब गयी थी अपने दोस्तों के साथ। पहुँचते ही चप्पल-जूते रखने वाले काउंटर पर पहुँचे। सैकड़ो चप्पल इधर से उधर हो रहे थे और करीब आठ-दस सरदार जी इस काम में लगे हुये थे। मैंने अपनी सैंडिल काउंटर पर रखा ही कि बिल्कुल चुन्नू से हाथों ने इसे दबोच लिया। मेरे मुँह से दर्द […]

grahlaxmi brestfeeding women गृहलक्ष्मी पत्रिका स्तनपान

घूरना इस देश की समस्या है लेकिन गृहलक्ष्मी ने सिर्फ स्तनपान कराती माँ की तस्वीर नहीं लेना चाहा है।

फोटोग्राफी हमेशा से पसन्द रही है मुझे। अब इंसानी भाव को कैप्चर करना सीखने का एक फ्री का अच्छा उपाय यह है कि आप America’s next top model जैसे प्रोग्राम के देख डाले। फैशन इंडस्ट्री ज्यादातर लोगों के दिमाग में “superficial” चीज है, पर ध्यान से देखने पर पता चलता है कि कितना सूक्ष्म अंतर […]

pregnancy pregnant women गर्भधारण प्रेग्नेंट माँ

मेरी कहानी : एक प्रेग्नेंट महिला जब सड़क पर निकलती है तो दुनियां कैसे बदल जाती है !

पहला गर्भधारण! अलौकिक अनुभव!! थोड़ी सी असुविधाएं और ढेर सी चिन्ताएं! विवाह के एक वर्ष के पश्चात जब ये समय मेरे जीवन में आया तो मेरे पास प्रतिक्रिया देने के लिये शब्द तो दूर भावों की भी बहुत कमी थी। लगा जैसे मैं स्वयं ब्रह्मा हो गयी हूँ,सृष्टि रचूंगी अब! लगा,विष्णु भी मैं ही हूँ,मेरा […]

priya prakash varrier p प्रिया प्रकाश वर्रिएर वरियर

मोहब्बत जिंदाबाद ! इस बार प्यार की बारिश केरल से हुई है

ये जो दूर केरल से प्यार के मौसम में मुसकुराहटों की बारिश हुई है ना देश भर में,इसके लिये शुक्रगुजार होना चाहिये हमें वैलेंटाइन से प्रेरणा लेने की जरूरत नहीं अब,किसी की मुसकुराहटें ही इतना दमखम रखती हैं कि दिल में प्यार की हल्की आँच जला दें और याद रखना इस हल्की आँच पर पकौड़ा […]

मेरठ वालो से बचिए, पता नहीं किसके सर पर 5 करोड़ का इनाम रख दे !

क्रांतिधरा मेरठ ऐंवई नहीं नाम के साथ बदनामी लेकर चलती है। एक से एक तीस मार खां बसते हैं यहाँ। ताजा उदाहरण मेरठ के कोई साहब है अब पता नहीं किस झोंक में जनाब ने 5 करोड़ का ईनाम भंसाली और दीपिका के सिर पर रख दिया। सिर कलम करने के एवज में तगडा ईनाम […]

मोहनजोदड़ो , सिंधु घाटी सभ्यता ,हड़प्पा संस्कृति लिपि hadappa sanskriti, mohanjodaro , sindhu ghati sabhyta ,

जिस दिन हड़प्पा लिपि पढ़ी जा सकेगी ,उस दिन मनुष्यता का इतिहास फिर से लिखा जाएगा ?

हड़प्पा संस्कृति और मनुष्यता का इतिहास नेपोलियन तो हिंदुस्तान तक पहुंचने का रास्ता खोजने चला था, लेकिन उसने खोज निकाला ईजिप्त का इतिहास ! यह पुरातत्व की दुनिया की सबसे बड़ी किंवदंती है। नेपोलियन की फ़ौजों के नील नदी की घाटी में क़दम रखने से पहले तक ईजिप्त के पिरामिड, स्फ‍िन्क्स, फ़ैरो सम्राट, तूतेनख़ामन की […]

मनुस्मृति , महर्षि मनु ,संविधान , मनुवाद manusmriti , manuvadi manusmarti

आजकल मनुस्मृति को पढ़ने के बजाय सिर्फ जलाने के लिये ही छापा जाता है !

मनुस्मृति कोई भी समाज चाहे किसी भी अवस्था में हो ,उसपर राजनीति और धर्म इन दोनों का प्रभाव पड़ता है ,जिससे समाज संचालित होता है ,चाहे वो कबीलायी समाज हो,जनपद,महाजनपद का युग हो ,राजतंत्र हो या फिर लोकतंत्र . लोकतंत्र में धर्म का प्रभाव तुलनात्मक रूप से कम रहता है और कम होना भी चाहिये […]

बाल सरक्षण बालाधिकार child rights child abuse

“ताकि जिंदा रहे बचपन”-कितनी बार इन हत्याओं के खिलाफ हम एकजुट हुए है ?

सुबह त्रयाक्ष को स्कूल भेजते वक़्त मेरी आँखों में सितारे होते हैं. न चाहते हुए भी उस वक़्त उठना पड़ता है जब नींद सबसे ज्यादा गहरी होती है. आँखें मलते बच्चे को तैयार करके स्कूल शायद मुझ जैसी सारी माँओं की दिन की पहली ड्यूटी होती है. जिस प्यार से हम अपने बच्चों को सुबह […]

बाल सरक्षण बालाधिकार child rights child abuse

“ताकि जिंदा रहे बचपन”-भारत का बचपन बचाइए,तभी सत्य की नींव पड़ेगी

एक स्टडी के अनुसार भारत के 53 प्रतिशत बच्चे शोषण के शिकार हैं। ऐसी स्टडी अक्सर अनुमान होती है, कम भी हो सकती है, ज्यादा भी। एक तीन साल की बच्ची जाँघ पर लाल निशान लिए आती है। मैं पूछता हूँ, कहती है गिर गई। पर डॉक्टर हूँ तो निशान समझता हूँ कि यह तभी […]

karna mahabharat कर्ण परसुराम महाभारत परशुराम

जब परशुराम ने कर्ण को धनुर्विद्या न देने के कारण बताये

“एक सूतपुत्र पर एक ब्राह्मण का अन्याय, क्यों??” गुरु परशुराम गहरी निद्रा में थे, लेकिन कुछ गीला सा स्पर्श होते ही चौंक कर खड़े हो गए और कह उठे,.. “यह सब क्या है ज्ञानमित्र?” कर्ण ने सम्पूर्ण विनय के साथ कहा, “गुरुवर, आप मेरी गोद में गहरी निद्रा में रत थे। तभी कोई कीट मुझे […]

ताजमहल आगरा tajmahal tazmahal

“ताजमहल” हमारा है, हमें उस पर नाज़ है, और हमेशा रहेगा!

“ताजमहल” हमारा अपना है ! अफ़ज़ाल अहमद की एक नज़्म है, जो हमेशा मेरे ज़ेहन में गूंजती रहती है : “काग़ज़ मराकशियों ने ईजाद किया/हुरूफ़ फ़ोनेशियनों ने/शायरी मैंने ईजाद की!” हर वो चीज़ जो हमारे रोज़मर्रा में शुमार हैं, कहीं ना कहीं, किसी ना किसी ने ईजाद की होती है। सबकुछ किसी एक ने नहीं […]