mahatma gandhi , nathuram godse , महात्मा गाँधी , नाथूराम गोडसे

गोडसे और गांधी दोनों मेरे हैं क्योंकि मैं हिन्दू हूँ.

गोडसे और गांधी दोनों मेरे हैं क्योंकि मैं हिन्दू हूँ ! हम कई बार इतिहास को महज इसलिए बंद नजरिये से पढ़ते हैं या देखते हैं कि लोग मेरे बारे में क्या सोचेंगे. गांधी-गोडसे प्रकरण भी इतिहास की ऐसी ही त्रासदी है. हममें से अधिकांश ऐसे हैं जो गांधी-गोडसे प्रकरण के सामने आते ही निरुत्तर, […]

मोहनजोदड़ो , सिंधु घाटी सभ्यता ,हड़प्पा संस्कृति लिपि hadappa sanskriti, mohanjodaro , sindhu ghati sabhyta ,

जिस दिन हड़प्पा लिपि पढ़ी जा सकेगी ,उस दिन मनुष्यता का इतिहास फिर से लिखा जाएगा ?

हड़प्पा संस्कृति और मनुष्यता का इतिहास नेपोलियन तो हिंदुस्तान तक पहुंचने का रास्ता खोजने चला था, लेकिन उसने खोज निकाला ईजिप्त का इतिहास ! यह पुरातत्व की दुनिया की सबसे बड़ी किंवदंती है। नेपोलियन की फ़ौजों के नील नदी की घाटी में क़दम रखने से पहले तक ईजिप्त के पिरामिड, स्फ‍िन्क्स, फ़ैरो सम्राट, तूतेनख़ामन की […]

बीटल्स बैंड का मशहूर किस्सा जो जुडा है भारत के ऋषिकेश से

ये किस्सा है बीसवी सदी के सबसे बडे राँक बैंड द बीटल्स के भारत भ्रमण का ,जब ब्रितानी पाँप बैंड  द बीटल्स पूरी दुनिया में करोडो दिलो पर अपनी जादुई धुन से राज कर रहा था। साठ के दशक में चार युवाओ के इस बैंड ने वो करिश्मा रचा कि लीवरपूल के इस बैंड ने […]

bharat india hindustan भारत इंडिया हिंदुस्तान भारतीय संसद भवन indian

1947 में हिंदुस्तान का बंटवारा हिंदुस्तान की हत्या थी वैसा हरगिज़ नहीं होना चाहिए था

“इंडिया” जो कि “भारत” है! रामचंद्र गुहा की किताब “इंडिया आफ़्टर गांधी” यूं तो स्‍वतंत्र भारत का राजनीतिक इतिहास है, लेकिन वह एक रूपक भी है. यह रूपक है : “इंडिया : द अननेचरल नेशन.” किताब में कोई भी सवाल हो : बंटवारे का मसला, रियासतों के विलय का मुद्दा, संविधान सभा में कॉमन सिविल […]

इजरायल इंडिया india israel

60 लाख यहूदियों के मरने के बाद उन्होंने पूछा- हमारा वतन कहाँ है ?

इज़रायल, इस्लाम और हम 1940 के दशक के बीच में अचानक हंगारी, पोलैंड, जर्मनी, ऑस्ट्र‍िया के यहूदियों ने पाया था कि वे एक क़तार में खड़े हैं और क़तार ख़त्म होने का नाम ही नहीं ले रही है। यहूदियों के घरों में “गेस्टापो” के जवान घुस जाते और कहते, “बाहर निकलकर क़तार में खड़े हो […]

विजयंत थापर रुख्शाना capt vijyant thapar

आजम खान बकवास करने से पहले कश्मीरी बच्ची की ये कहानी पढ़ लेना

आजम खान को एक सच्ची कहानी सुनाना चाहता हूं..।। 1999..।। एक महज 22 साल का लडका जिसको भारतीय फौज ज्वाईन किये मुश्किल से एक साल हुआ था….उसकी बटालियन 2 राजपूताना राईफल्स को कश्मीर के कुपवाडा मे पाकिस्तानी आतंकवाद का सामना करने हेतु तैनात किया गया। कुपवाडा मे पोस्टिंग के दौरान ये बहादुर फौजी आये दिन […]

1857 revolt क्रान्ति मेरठ प्रथम स्वतंत्रता संग्राम

सीकरी की शहादत : इस पूरे गाँव को अंग्रेजो ने गोलियों से भून डाला था

मेरठ से 13 मील दूर, दिल्ली जाने वाले राज मार्ग पर मोदीनगर से सटा हुआ एक गुमनाम गाँव है-सीकरी खुर्द। 1857 के स्वतन्त्रता संग्राम में इस गाँव ने एक अत्यन्त सक्रिय भूमिका अदा की थी ।  10 मई 1857 को देशी सैनिक ईस्ट इण्डिया कम्पनी की सरकार के विरूद्ध संघर्ष (1857 क्रांति) की शुरूआत कर […]

माइकल जैक्सन michael jackson

“जैक्सन की मौत नहीं हुई थी, वह केवल अपने प्लैनेट वापस लौट गया था !”

जिसने कभी चांद पर चलने की कोशिश की थी __________________________________ “जैक्सन की मौत नहीं हुई थी, वह केवल अपने प्लैनेट वापस लौट गया था !” ये अफ़वाहों और अंधड़ों की कहानी है! अजीब बात है, लेकिन इस कहानी की शुरुआत एक जवान मौत के इर्द-गिर्द होती है… और एक क़त्‍ल के भी. गोया ये अपने […]

1857 revolt meerut, dhan singh kotwal , rao umrao singh gadar 31 may 1857 की क्रांति , धन सिंह कोतवाल राव उमराव सिंह भाटी

हिंडन नदी का ऐतिहासिक युद्ध, जब क्रांतिकारियों ने अंग्रेजो का घमंड चकनाचूर किया

आज 31 मई का दिन भारतीय इतिहास में सदा याद किया जाता रहेगा क्योंकि 30 व 31 मई 1857 को ब्रिटिशकालीन भारत में दुनिया की सबसे प्रशिक्षित अंग्रेजी फौज व भारत के क्रान्तिकारियो की उत्साही सेना का मुकाबला गाजियाबाद में बहती हिंडन नदी के तट पर हुआ था। तब हिंडन हरनंदी नदी कहलाती थी व […]

महेंद्र सिंह टिकेत mahendra singh tikait jaat

पश्चिमी यूपी में कभी इस बाबा के हुक्के की गुडगुडाहट चुनाव की दिशा तय करती थी!

ठेठ गंवई अंदाज में बाबा जब सड़क पर अपने किसान साथियो के साथ हुक्का लेकर बेठते  तो राजनितिक गलियारों में माथे की सलवटे बढ़ने लगती ! बाबा के हुक्के की गुडगुडाहट के बीच फैसला लिया जाता कि किसान इस बार किसके पक्ष में जाएगा ! कुछ तो ख़ास बात थी बाबा में , कि उनकी […]

इस अजेय जाट राजा की कूटनीति से घबरा गया था अब्दाली !

1761 में पूना पेशवाओं को हराने वाला अहमदशाह अब्दाली, 1757 में एक अजेय भारतीय की कूटनीति के आगे हुआ था धराशायी: यह किस्सा प्रोफेसर गण्डासिंह ने अहमदशाह अब्दाली पर लिखी अपनी पुस्तक में क़दरतुल्लाह के ग्रंथ ‘जाम-ए-जहानुमा’ के पेज 181 से लिया है| आक्रांता अहमदशाह अब्दाली ने भारत में लाखो लोगो का कत्लेआम किया| जब […]

कोतवाल धन सिहँ गुर्जर 1857 revolt dhan singh kotwal meerut gurjar gujjar कोतवाल धन सिंह गुर्जर धन सिंह कोतवाल मेरठ की क्रांति

मेरठ का वह कोतवाल जिसने अंग्रेजी जुल्म के खिलाफ क्रांति की पहली मशाल जलाई !

कोतवाल धन सिंह गुर्जर- मेरठ में उन दिनो एक साधू घूमा करता था जिसका नाम पता किसी को मालूम न था ,वह अंदरखाने किसी गुप्तयोजना को आकार दे रहा था , वह सैनिको के गुस्से को गोरो के प्रति भुना रहा था , गांव वालो व किसानो पर हो रहे जुल्म को दिखाकर किसानो को […]

varrier elwin india kaushibai kaushalya the popular indian

13 साल की आदिवासी कौशीबाई के शोषण के दोषी एल्विन के अलावा गांधी व नेहरू भी है !

13 वर्षीय आदिवासी लड्की कोशीबाई की मार्मिक कहानी ! (जिससे एक अंग्रेज लेखक एवम मानवशास्त्री पद्मभूषण पुरस्कार प्राप्त ” वेरियर एल्विन” ने शादी की) एक आदिवासी अनपढ़  लड़की जो पूरी जिंद्गी अपना वजूद तलासती रही..ओर जिसे अंत मे 90 वर्ष की उम्र मे मौत भी मिली तो ऐसी कि उसकी लाश को कंधा देने उसके […]

hukka , hookah , the popular indian , gurjar, jaat

After 20 years, we realized the power of hukka

My dad was a government officer used to work in Delhi He was a man with wonderful health and Sanatani habits (pure vegetarian and non smoker) . In 1992 somewhere, he came in contact with some of his old friends and started spending time with them. very soon, we saw him smoking beedi and hukka. […]

‘आज़ादी’ की इस कथित लड़ाई में औरतें सबसे ज्यादा तबाह थीं ! ‘कश्मीरियत’ पर ‘हैवानियत’ ज्यादा भारी थी !

  वो बेहद शर्मीले स्वभाव का था, नाम था मनोज. उसकी शादी नहीं हुई थी अभी. कुल जमा बाइस साल उम्र थी, हालाँकि गर्लफ्रेंड थी उसकी ! सेना ज्वाइन करने के बाद कश्मीर में उसकी पोस्टिंग नई थी | उसी समय छित्तिसिंघपोरा में सिखों को कश्मीरी आज़ादी के दीवानों ने घरों से खींच कर मारा […]